Participating partners:


    डरकर नहीं! डटकर? :

  • Ghanshyam Bairagi
    Ghanshyam Bairagi
    • Posted on September 12
    डरकर नहीं! डटकर? :

    डर सबको लगता है ?
    क्यों !
    डर कर जीते हैं लोग ?
    जीतना है ?
    तो डर क्यों ?
    जीत की खुशी,
    भगाती है डर.
    इसीलिए;
    डरकर नहीं,
    चलते रहो ;
    डटकर..... ।।
    Guest likes 2
    Post Comments Now
    Comments