Participating partners:


    मिलावट खोरो पर दिये थे सुझाव,नई दिल्ली fssai से मिला जवाब युवा पत्रकार अक्षय आजाद भंडारी ने कुछ सुझाव भी दिए जिसका जवाब भी प्राप्त हुआ।

  • Akshay Bhandari
    Akshay Bhandari
    • Posted on January 27, 2016
    मिलावट खोरो पर दिये थे सुझाव,नई दिल्ली fssai से मिला जवाब युवा पत्रकार अक्षय आजाद भंडारी ने कुछ सुझाव भी दिए जिसका जवाब भी प्राप्त हुआ।
    राजगढ़(धार)। राष्ट्रपति हेल्प लाईन पर युवा पत्रकार अक्षय आजाद भण्डारी ने भेजा था सुझाव। CPGRAMS पोर्टल पर दिनांक 04.12.2015 को लिखा था कि मिलावट पर सख्त कानून लाने की आवश्यकता है क्या हमारा देश में कोई भी जिस विभाग का मिलावटी चीजों पर जाँच करना जिस अधिकारी का कार्य होता लेकिन हमारे यहा उन खाने पिने चीजो का सेंपल लेते उधर मिलावट चीजें सेंपल के पहले खरीद कर घर घर पहुँच जाती है और हमारी सेहत पर असर डालती है तो बडी बीमारी भी हो सकती है।

    इसके लिए सुझाव दिया था क्या सोशल मीडिया व् समाचार पत्रो में आये दिन मिलावट पर जागरूक करने के लिये कार्यक्रम भी आते है और चुटकी में पता लगाया जा सकता है।क्या यह जो जागरूक करने के कार्यक्रम आते है यह सही नही है अगर साइंस और हम सब मानते है जिन चीजों का परीक्षण कर मिलावटी चीजों का पता किया जा सकता है तो फिर हाथो हाथ जाँच के लिये पहल क्यों नही न करा जाए और साथ ही इसको शिक्षा के पाठ्यक्रम में भी जोड़ा जाना जाए ताकि मिलावट को पुरे देश से खत्म किया जा सके और स्वस्थ भारत मिलावट मुक्त भारत हो।



    यह डाक पत्र से मिला जवाब-

    अक्षय भंडारी को 25 जनवरी 2016 सोमवार को भारतीय खाघ संरक्षा एवं मानक प्राधिकरण (गुणवत्ता आश्वासन विभाग) नई दिल्ली से पत्र मिला जिसमें लिखा आपकी शिकायत त्वरित मिलावट जाँच केंद्र ध्मिलावटी चीजों के सन्दर्भ में यह सूचित किया जाता है की fssai के वेबसाइट के नीचे दिये गए पोर्टल में त्वरित मिलावट जाँच के कुछ सामान्य तरीके उपलब्ध है।

    और साथ ही लिखा एफएसएसआई द्वारा 12 वीं पंचवर्षीय योजना के दौरान दिये गये राज्यध्सार्वजनिक खाघ प्रयोगशालाओ के उन्नयन के प्रस्ताव पर निर्णय की प्रतिक्षा है। आखिर प्रतीक्षा केसी के मिलावट पर प्रस्ताव पर निर्णय की।
    4 People like this
    Akshay Bhari3 Guest Likes
    Post Comments Now
    Comments (1)