Participating partners:


    मातृछाया के बच्चों को मिलता रहा है एक नया परिवार :

  • Ghanshyam Bairagi
    Ghanshyam Bairagi
    • Posted on December 3
    मातृछाया के बच्चों को मिलता रहा है एक नया परिवार :

    केन्द्रीय दत्तक ग्रहण संसाधन प्राधिकरण की सदस्य,
    श्रीमती इंदिरा मिश्रा पहुंची मातृछाया,
    बच्चों की देख-रेख का निरीक्षण :

    भिलाई : केन्द्रीय दत्तक ग्रहण संसाधन प्राधिकरण नई दिल्ली की सदस्य श्रीमती इंदिरा मिश्रा एवं दुर्ग संभागायुक्त दिलीप वासनीकर ने दुर्ग जिला मुख्यालय स्थित मातृछाया पहुंचकर बच्चों की देख-रेख के लिए की गई व्यवस्था एवं अपनायी जाने वाली प्रक्रियाओं का निरीक्षण किया.
    उन्होंने बारीकी से केन्द्र में बच्चों की देख-भाल के लिए की जा रही सभी प्रक्रियाओं का अवलोकन किया. इस दौरान उन्होंने मातृछाया में नियुक्त अधिकारियों एवं कर्मचारियों से उनके दायित्वों और कत्र्तव्यों की जानकारी ली.
    उन्होंने कार्यालय में रखे एक-एक पंजियों का अवलोकन भी किया. बच्चों की चाह रखने वाले परिवार जो मातृछाया के बच्चों को गोद लेते है, इसके लिए केन्द्र के द्वारा कौन-कौन सी प्रक्रियाओं का पालन किया जाता है, इसका उन्होंने परीक्षण किया.
    बच्चों को इच्छित परिवार को सुपुर्द करने के पूर्व सत्यापन के लिए निर्धारित बिन्दुओं का पालन हो रहा है या नहीं इसका भी उन्होेंने परीक्षण किया.
    इस दौरान उन्होंने जानना चाहा कि मातृछाया में किस तरह से बच्चे आते हैं. बच्चे के आने के बाद विभाग के द्वारा कौन-कौन सी कार्यवाही की जाती है, इसकी जानकारी भी उन्होंने संबंधित अधिकारियों से ली.
    दुर्ग जिले में महिला एवं बाल विकास विभाग द्वारा मान्यता प्राप्त संस्था विशिष्ट दत्तक ग्रहण एजेंसी व बालक कल्याण समिति के अध्यक्ष एवं सदस्यों से दत्तक प्रक्रिया का आॅनलाईन स्थिति व प्रारंभ से अब तक दत्तक में दिए गए बच्चों की जानकारी ली.
    आॅनलाईन प्रक्रिया की समस्याओं के समाधान हेतु सरलीकरण करने के सुझाव दिए. संस्था में निवासरत् नवजात बच्चों की देख-रेख व प्रतिदिन की दैनिक दिनचर्या से रू-ब-रू हुए.
    सेवा भारती मातृ छाया समिति के सदस्यों से तथा कार्यरत् कर्मचारियों से बच्चों के संबंध में विस्तृत चर्चा लिए.

    टोल फ्री नंबर 1098 की विश्वनीयता जानने, लगायी फोन -

    टोल फ्री नंबर 1098 की विश्वनीयता जानने के लिए उन्होंने कार्यालय के अधिकारियों को उक्त नंबर पर फोन लगाने कहा. फोन रिसीव होने पर उन्होंने अनाथ बच्चों के संबंध में जानकारी मिलने पर किस प्रकार की कार्यवाही की जाती है और बच्चों को अपने सुपुर्द लेने के लिए किस प्रकार की तत्परता दिखायी जाती है, इसकी जानकारी भी ली.
    कही लावारिश स्थिति में कही भी कोई बच्चा मिलने की सूचना आने पर तत्परतापूर्वक कार्यवाही करने कहा. इस दौरान उन्होंने अनाथ आश्रम में रह रहे बच्चों के प्रति सामाजिक भागीदारी बनाने के लिए समय-समय पर जागरूकता कार्यशाला का आयोजन करने का भी सुझाव दिया.
    लोगों में संवेदनशीलता के साथ अनाथ बच्चों के प्रति मानवीय मूल्यों का निर्वहन करने की बात कही.
    बाल सरंक्षण समिति के सदस्यों की ली बैठक
    केन्द्रीय दत्तक ग्रहण संसाधन प्राधिकरण नई दिल्ली की सदस्य श्रीमती इंदिरा मिश्रा ने महिला एवं बाल विकास विभाग के जिला कार्यालय स्थित बाल संरक्षण समिति के कार्यालय में समिति के सदस्यों की बैठक ली.
    यहाँ उन्होंने बाल गृह में बच्चों के देख-भाल के लिए की जाने वाली प्रक्रियाओं की विस्तृत जानकारी ली. बाल गृह एवं बालिका गृह में आने वाले बच्चों की माता-पिता अथवा पालकों की पतासाजी के लिए विभाग के द्वारा की जाने वाली कार्यवाही की जानकारी ली.
    पूर्व में बाल गृह के बच्चों को उनके पालकों को सुपुर्द करने के लिए की गई कार्यवाही का अवलोकन किया. उन्होंने यहाँ रखे हुए निर्धारित पंजियों का अवलोकन कर अपनायी जा रही नियमों का अवलोकन किया.
    इस दौरान उन्होंने बाल संरक्षण समिति के सदस्यों को किसी भी बच्चें को सुपुर्द करने के पूर्व सभी प्रक्रियाओं का अनिवार्य रूप से सत्यापन करने के उपरांत ही सुपुर्द करने के निर्देश दिए.
    बाल कल्याण समिति के सदस्यों से बच्चों के संबंध में किशोर न्याय अधिनियम के तहत उचित निराकरण, परिवार में पुनर्वास तथा एकीकृत प्रचार-प्रसार व योजना को लागू करने कहा. बाल देख-रेख संस्थाओं में निवासरत् बालकों का दत्तक हेतु आवश्यक कार्यवाही करने कहा.
    इस दौरान जिला कार्यक्रम अधिकारी महिला एवं बाल विकास विभाग अशोक पाण्डेय, महिला एवं बाल विकास अधिकारी आभा गुरूद्वान, बाल संरक्षण समिति के सदस्य श्रीमती सरिता मिश्रा, श्रीमती अवध विश्वकर्मा, राकेश साहू, विजिताभ श्रीवास्तव सहित मातृछाया के अध्यक्ष सुधीर हिसिकर, उपाध्यक्ष प्रमोद बाघ, सचिव दिलीप देशमुख, संचालकगण गायत्री साहू, योगेश साहू, आलोक राठौर, सुरेन्द्र कौशिक मौजूद थे.
    Guest likes 1
    Post Comments Now
    Comments