Participating partners:


    टर महिमा

  • अब्बू जाट
    अब्बू जाट
    • Posted on January 8
    टर महिमा
    एक बार एक आदमी ने अपने भावी दामाद से पूछा- दहेज में आपको क्या क्या चाहिये ?
    हम आपके ससुर जी हैं हमसे बेहिचक फरमाइये ।

    ऐसा सुन दामाद जी की बांछे खिल गई ,
    मानो मुँह मांगी मुरादें ही मिल गई ।

    दामाद जी बोले हमें चाहिए 'टर'
    जैसे स्कू'टर', मो'टर' ट्रांजिस्टर रजिस्टर और हो सके तो एक रेफ्रिजरे'टर'

    दामाद जी की बात सुन ससुर जी चकराये,
    उस दहेज के भूखे भेड़िये से कुछ ऐसे पेश आये ।
    हम तो आपके लिये कुछ और ही लाये ।

    पहनिए स्वे'टर' , बनिए दूल्हा,
    लीजिये लाइ'टर', जलाइये चूल्हा ।
    पकाइये म'टर' टमा'टर' विद वा'टर'
    साथ में दुंगा अपनी डॉ'टर' जिसके हाथ में होगा एक हं'टर'
    शादी मंजूर है क्या मिस्टर ?

    ऐसा सुन दामाद जी घबराए ,
    और स्कूटर की जगह खुद भागते नजर आये ।
    Guest likes 5
    Post Comments Now
    Comments