Participating partners:


    ख्वाब का साथ

  • Amit k. Pandey 'Shashwats'
    Amit k. Pandey 'Shashwats'
    • Posted on May 10
    ख्वाब का साथ
    रिश्तों ने नाव डुबोने की मानो ठानी , दोस्तों ने अपनी पहचान भी कर ली. समुन्दर से जहां में बसर भारी नहीं , जब तलक तुम हारी नहीं. ख्वाब तो साथ दिए जाए हर क्षण , ढूंढता मीत तुम्हे एक, मन ही मन .
    Post Comments Now
    Comments