Participating partners:


    अनुसरण :

  • Ghanshyam Bairagi
    Ghanshyam Bairagi
    • Posted on May 9
    अनुसरण :


    सिर्फ करना
    अनुसरण,
    जीवन सुधर जायेगा.
    न कोई
    जरूरत सुधार की,
    न चाहिए
    सुधारने वाला ही कोई.
    पहनते रोज
    साफ-सुथरे कपड़े,
    कपड़े से
    झलकता व्यक्तित्व है.
    खाना है
    बांटकर ही खाना,
    न बांटे तो
    देखता जमाना भी है.
    रहना,
    परिवार के संग ही.
    अकेले
    अमानुषता झलकता है.
    कहीं कोई
    कर रहा अनुसरण,
    फिर वही
    तुम्हारे पीछे खड़े ;
    राह की पगडंडी पकड़ेगा.
    रह जायेगा
    तू अकेला जब,
    कभी गलत राह चलेगा.
    ध्यान रख
    कर रहा कोई,
    पीछे तुम्हारा अनुसरण.
    Post Comments Now
    Comments