Participating partners:


    रहमत तेरी...........

  • samar bhaskar
    samar bhaskar
    • Posted on February 13
    रहमत तेरी...........
    रहमत तेरी......
    कोई पारावार नहीं तेरी रहनुमाई का।
    तू भरना चाहता है ये जख्म जुदाई का।
    तू हर बार नजर फेरता है शिद्दत की,
    मगर मुंह फेर लेता है ये मन इस हरजाई का।
    1 People like this
    Post Comments Now
    Comments (9)
    • samar bhaskar
      samar bhaskar यदि मैं काफिर हूँ तो मुझे अपने धर्म के सत्य तर्क और ज्ञान से समझाओं गाली गलौज पर क्यों या रहे,
      इस्लाम का आतंकी पन ये साबित करता है कि इसमें कुछ सत्य तर्क और ज्ञान है ही नहीं।
    • samar bhaskar
      samar bhaskar सही कहा हम तुम्हारी बराबरी नहीं कर सकते, अपनी माँ बहन का हलाला और खतना, तुम जैसे सूअर ही कर सकते है। यदि तुम और तुम्हरा धर्म बहुत अच्छा है तो क्यों दुनिया ने तुम्हे आतंकी घोषित कर रखा है, क्यों चीन, अमेरिका ब्रिटेन में कटुओं की जाँच नंगा करके, g में डंडा ...  Read more
    • samar bhaskar
      samar bhaskar अपनी माँ बहन का हलाला कर के भी तुम कटुओ का जी नहीं भरता तभी तो 4 शादी करते हो। क्यों न करो ऐसा क्योंकि तुम भी वैश्या के पुजारी मुहम्मद की औलाद हो, जिसने बुढ़िया से शादी की थी ये बात जग जाहिर है।
    • samar bhaskar
      samar bhaskar यदि हम लिंग को पूजते है तो तुम लिंग को चूमते चाटते हो क्योंकि तुम सूअरों के लिए लिंग का मतलब सिर्फ जननांग होता, लिंग पर बोलने से पहले अपने पाक पत्थर संगे-अस्वद का आकार देख ले। यदि हम लिंग पूजते है तो लिंग सहित कटुओं की मजार या मस्जिद बनाकर उसके सामने अपनी...  Read more
    • samar bhaskar
      samar bhaskar अपनी माँ बहन का हलाला और खतना करने वाले कटुए सुन जिस प्रकार महाभारत में असत्य का साथ देने के लिए महान और धर्म परायण भीष्म पितामह को मरना पड़ा ठीक उसी प्रकार गाँधी को भी मारना पड़ा, क्योंकि गोडसे जानता था था यदि कटुओं को छूट दे दी गयी तो कमीने कटुए भारत में ...  Read more
    • samar bhaskar
      samar bhaskar जिसके पास कोई जवाब नहीं होता वही गाली बकता है लो अब सुनो गाली
    • samar bhaskar
      Abdul hannan Aur GODSE Kiya teraa baap tha kyon be jisne Baapu ki hatya ki Ise Atankwaad kahte hian Aasaaraam ki Aulad ja Jake dekh bhgwan Tera koun.h kaafir
    • samar bhaskar
      Abdul hannan Tum log ling hi poojo saalon Hmari Barabri Mt kro Aasaaram ki aulad apna dhrm to aaale tumhe pata nhi h aur bat krta h Hmme takat h to 4 Shaadi krte Hain tum saale hizde aur hizde ki Aulad Kya kroge
    • samar bhaskar
      Abdul hannan Jiske ho carono bhagwan kaisa hoga wo jalim insaan, jiske bhagwan krte ho Ladkiyon k saath aiyasi aise krishana hone chahiye tha fansi, jis Ram be nhi kiya apni hi seeta ka Visvaas uske chahne wale bhkt na kre Ladkiyon k pakch ki bkwas, nhi ati hai unki y...  Read more