Participating partners:


    भिलाई इस्पात संयंत्र हादसे का गुनाहगार कौन ? होगी दण्डाधिकारी जांच :

  • Ghanshyam Bairagi
    Ghanshyam Bairagi
    • Posted on October 10
    भिलाई इस्पात संयंत्र हादसे का गुनाहगार कौन ? होगी दण्डाधिकारी जांच :


    केन्द्र और राज्य दोनों की पूरी संवेदना,
    पीड़ित परिवारों के साथ - डॉ. रमन सिंह :

    भिलाई-दुर्ग : 10 अक्टूबर 2018/ मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने आज केन्द्रीय इस्पात मंत्री चैधरी वीरेन्द्र सिंह के साथ भिलाई नगर के सेेक्टर-9 स्थित अस्पताल का दौरा किया, जहाँ उन्होंने भिलाई इस्पात संयंत्र के हादसे में घायल श्रमिकों के स्वास्थ्य और उनकी उपचार व्यवस्था का जायजा लिया. मुख्यमंत्री और केन्द्रीय इस्पात मंत्री ने अस्पताल के डॉक्टरों को घायलों का बेहतर से बेहतर इलाज सुनिश्चित करने के निर्देश दिए.
    इस अवसर पर केन्द्रीय इस्पात राज्यमंत्री विष्णुदेव साय, छत्तीसगढ़ सरकार के राजस्व और आपदा प्रबंधन मंत्री प्रेमप्रकाश पाण्डेय सहित राज्य और केन्द्र सरकार तथा इस्पात संयंत्र प्रबंधन के अन्य अधिकारी भी मौजूद थे.
    मुख्यमंत्री ने केन्द्रीय इस्पात मंत्री चैधरी वीरेन्द्र सिंह के साथ अस्पताल परिसर में ही एक संक्षिप्त बैठक में कल के सम्पूर्ण घटना क्रम पर विचार-विमर्श किया. मुख्यमंत्री ने कहा कि निश्चित रूप से यह एक अत्यंत गंभीर और दुखद घटना है. हमने अपने अनेक श्रमवीरों को इस हादसे में खोया है. केन्द्र और राज्य दोनों की पूरी संवेदना और सहानुभूति इस हादसे से पीड़ित परिवारों के साथ है.
    मुख्यमंत्री ने हादसे में घायल श्रमिकों के जल्द स्वास्थ्य लाभ की कामना करते हुए उनके इलाज में हर संभव सहयोग का भरोसा दिया. मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार ने अपने अधिकारियों को निजी क्षेत्र और सार्वजनिक क्षेत्र के सभी उद्योगों में मानव जीवन की सुरक्षा को सर्वोच्च प्राथमिकता देने के निर्देश दिए हैं और कहा कि सभी प्रकार के कारखानों में सुरक्षा मानकों का गंभीरता से पालन किया जाए.
    केन्द्रीय इस्पात मंत्री चैधरी वीरेन्द्र सिंह ने भी हादसे को बहुत गंभीर और दुखद बताया. उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ सरकार और केन्द्र सरकार दोनों हर कदम पर अपने श्रमवीरों के प्रभावित परिवारों के साथ खड़ी हैं और हम सब मिलकर उन्हें हर संभव मदद पहुंचाने के लिए तत्पर हैं.
    केन्द्रीय इस्पात मंत्री ने कहा कि हादसे के कारणों की पूरी गंभीरता से जांच की जाएगी और इसमें दोषी पाए जाने वालों पर नियमानुसार कड़ी कार्रवाई की जाएगी.

    भिलाई इस्पात संयंत्र हादसे की होगी दण्डाधिकारी जांच -

    कलेक्टर एवं जिला दण्डाधिकारी उमेश कुमार अग्रवाल ने विगत दिवस भिलाई इस्पात संयंत्र में हुई हादसे की दण्डाधिकारी जांच के आदेश दिए हैं.
    कलेक्टर द्वारा अतिरिक्त जिला दण्डाधिकारी संजय अग्रवाल को जांच अधिकारी नियुक्त किया गया है. घटना की जांच हेतु निम्न बिन्दु निर्धारित किए गए हैं- घटना का विवरण?, घटना घटित होने का कारण क्या था ? क्या इस घटना को टाला जा सकता था ? इस तरह की घटना की पुनरावृत्ति ना हो, इसके लिए सुझाव तथा अन्य बिन्दु जो जांच अधिकारी उचित समझे. जिला दण्डाधिकारी ने उक्त बिन्दु के अनुसार जांच अधिकारी को जांच प्रतिवेदन एक माह में पूर्ण कर प्रस्तुत करने कहा है.
    ज्ञातव्य हो कि 9 अक्टूबर 2018 को भिलाई इस्पात संयंत्र भिलाई कोक ओव्हंस बैटरी क्रमांक 11 के पीछे कालम नंबर सी-50 में कोक ओव्हंस गैस पाईप लाईन में कार्य करते समय लगी आग से 9 कर्मचारियों की मृत्यु एवं 14 कर्मचारी गंभीर रूप से घायल हुए थे. अब तक मृतक कर्मचारी की संख्या 12 हो चुकी है.
    2 People like this
    Ghanshyam Bairagi1 Guest Likes
    Post Comments Now
    Comments