Participating partners:


    हों शांत मन...

  • Ghanshyam Bairagi
    Ghanshyam Bairagi
    • Posted on February 1
    हों शांत मन...

    भाग-दौड़ जिंदगी की
    सबसे कठीन समय ,
    शांत हो मन सुकून सी ,
    जिंदगी चलता चले ।
    एक पल की सुख
    जीवन का दु:ख ,
    मिटता सभी सुकून सी ।
    मिलकर रहें जुड़कर चलें ,
    पलभर भी दु:ख मिलता नहीं ।
    बित जाए पल भाग-दौड़ की ,
    हो शांत मन सुकून सी ।
    *****************************
    - घनश्याम जी.वैष्णव बैरागी
    08827676333
    gbairagi.enews@gmail.com
    =======================
    Post Comments Now
    Comments