Participating partners:


    हिदायत सर्द इश्क की

  • samar bhaskar
    samar bhaskar
    • Posted on January 3
    हिदायत सर्द इश्क की
    हिदायत सर्द इश्क की.......
    चले हो चढ़ के कस्ती पे जिन नजारों को देखने,
    आखिर वही तुम्हारे डूबने का नजारा देखेंगे।
    संभल जाओ यारों समा-ए-इश्क बहुत सर्द है,
    वर्ना जलेगी तुम्हारे अरमानो की अर्थी,
    तुम्हारे चाहने वाले ही पहले हाथ सेकेंगे।।।।
    1 People like this
    Post Comments Now
    Comments