Participating partners:


    हकीकत इश्क की

  • samar bhaskar
    samar bhaskar
    • Posted on June 3
    हकीकत इश्क की
    जब मैंने बदला उछालते ख्वावों को हकीकत में,
    तो ये दिल उनकी चोटों से टूट गया ।।।।
    जिस समंदर से प्यासा था जिंदगी को ,,
    उसमे जाकर उसकी लहरों में डूब गया ।।।
    जिस को समझते थे चैनो-अमन का मालिक ,,
    वो सारे चैनो- अमन को नजरों में लूट गया।।।
    Guest likes 2
    Post Comments Now
    Comments