Participating partners:


    ख्वाइश

  • Vandana Singh
    Vandana Singh
    • Posted on August 9
    ख्वाइश
    ख्वाइशों को
    दिल मे दवाए
    दरवाज़ा बंद करके
    कब से बैठी थी
    नन्ही सी आशा नें
    दस्तक दी दिल पर
    खोला दरवाज़ा
    तो देखा सामनें
    मासूम ख्वाइश खड़ी थी
    --वंदना सिंह
    पत्नी श्री एस एन सिंह( कुलपति )
    म मो म प्रौ वि गोरखपुर
    ( उ प्र )
    Guest likes 6
    Post Comments Now
    Comments