Participating partners:


    असर दिखता है :

  • Ghanshyam Bairagi
    Ghanshyam Bairagi
    • Posted on January 6
    असर दिखता है :


    असर तो दिखता है,
    क्योंकि वह बिकता है ।
    जो बिकता है,
    वही तो दिखता है ।।
    बाजार में भरी हुई,
    सामान ही दिखता है ।
    क्योंकि,
    रखा हुआ
    सामान ही बिकता है ।।
    संग्रह तो अंदर है,
    वह कहां दिखता है ।
    इसलिए,
    जो दिखता है
    सिर्फ वही तो बिकता है ।।
    भावनाएँ प्रकट हों
    जो संग्रहित है,
    संग्रहित संक्रमित हो
    इससे पहले निकाल दो ।
    प्रकट होते हैं
    जो जुबान से निकला है,
    कोई जो ग्रहण करे
    समझो वही बिकता है ।।
    नहीं बिकने वाला
    कहीं सड़ ना जाये ।
    यह असर दिखता है ।।
    इसीलिए,
    यह बिकता है ।
    क्योंकि,
    जो दिखता है
    वही तो बिकता है ।।
    सामान हों
    या ;
    भावनाएँ ।
    असर तो दिखता है ।।

    - घनश्याम जी.बैरागी
    08827676333
    gbairagi.enews@gmail.com
    ========================
    Post Comments Now
    Comments