Participating partners:


    जारवा कहाँ की जनजाति है?

  • Aashana lalvani
    Aashana lalvani
    • Posted on March 17
    जारवा कहाँ की जनजाति है?

    जारवा, भारत के अण्डमान एवं निकोबार द्वीपसमूह की एक प्रमुख जनजाति है. वर्तमान समय में इनकी संख्या 250 से लेकर 400 तक अनुमानित है जो कि अत्यन्त कम है. जारवा लोगों की त्वचा का रंग एकदम काला होता है और कद छोटा होता है. करीब 1910 तक जारवा जनजाति किसी की नज़रों में नहीं आई थी और एक अलग तरह का जीवन जी रही थी. अगर कोई बाहरी आदमी इनके दायरे में प्रवेश करता था, तो ये लोग उसे देखते ही मार देते थे, हालाँकि 1998 के बाद इनकी इस आदत में बहुत बदलाव आ चुका है.
    जारवा जनजाति 5 हजार साल से यहाँ रहती है, लेकिन 1990 तक बाहरी दुनिया के लोगों से इनका कोई संपर्क नहीं था. जनजाति अब भी तीर-धनुष से अपने लिए शिकार करती है. इस समुदाय में परंपरा के अनुसार यदि बच्चे की माँ विधवा हो जाए या उसका पिता किसी दूसरे समुदाय का हो तो बच्चे को मार दिया जाता है. बच्चे का रंग थोड़ा भी गोरा हो तो कोई भी उसके पिता को दूसरे समुदाय का मानकर उसकी हत्या कर देता है.
    Post Comments Now
    Comments (2)