Participating partners:


    असीमानंद को साल 2007 के अजमेर दरगाह धमाके के मामले में एक विशेष अदालत ने बरी कर दिया है.

  • Aarish Khan
    Aarish Khan
    • Posted on March 8
    असीमानंद को साल 2007 के अजमेर दरगाह धमाके के मामले में एक विशेष अदालत ने बरी कर दिया है.
    असीमानंद को साल 2007 के अजमेर दरगाह धमाके के मामले में एक विशेष अदालत ने बरी कर दिया है. इस मामले में तीन अन्य को दोषी करार दिया गया है. स्वामी असीमानंद को अजमेर के ख्वाजा मुइनुद्दीन चिश्ती दरगाह में 2007 में हुए विस्फोट के मामले में गिरफ्तार किया गया था.

    उन पर हमले की योजना बनाने का आरोप था. 11 अक्टूबर 2007 को हुए इस ब्लास्ट में तीन लोगों की मौत हो गई थी और करीब 20 लोग घायल हुए थे.

    मामले की जांच 2011 में एनआईए को सौंपी गई थी. चार्जशीट में असीमानंद को मास्टर माइंड बताया गया था. असीमानंद और छह अन्य पर हत्या, साजिश रचने, बम लगाकर धमाका करने और घृणा फैलाने का आरोप लगाया गया था.
    Post Comments Now
    Comments (1)