Participating partners:


    ● संस्कार तो जरूरी है, भले ही...

  • Ghanshyam Bairagi
    Ghanshyam Bairagi
    • Posted on March 11
    ● संस्कार तो जरूरी है, भले ही...


    उच्च शिक्षा प्राप्त कर बच्चे ;
    पहुंच जाए बड़े ओहदे पर...
    पालक थोपने की प्रवृत्ति छोड़ें ●

    इस महीनेे परीक्षा का सत्र चल
    रहा है, पुन: नया सत्र भी शुरू हो जायेगा ।
    महंगी शिक्षा के साथ जब बच्चे को तैयार किया जाता है , तभी पालक उन्हे आम बच्चों से दूर रखने का प्रयास करते चले जाते हैं । और कोई यदि पूछे कि, कौन से कक्षा में हैं आपके बच्चे ? तो उनका जवाब आता है, A..... मॉडल स्कूल में पढ़ता है ; फिर बतलाया जाता है कि, वह क्लास "वन" में है ! एक तरह से उस बच्चे का वन गमन हो जाता है ?
    यह कोई कहानी नहीं, हकीकत है !
    जहाँ अच्छी शिक्षा की चाह रखते हुए, बच्चे का संस्कार बदल जाता है । अब आप बताइए कि, संस्कार विहीन बच्चे कैसे हो गये । जबकि, पालक थोपने की प्रवृत्ति नहीं छोडते हैं । अच्छी शिक्षा की चाह में, यहाँ तो नीव के साथ, भवन ही बदल जाते हैं ।
    मैं यह नहीं कहता कि, बच्चे को अच्छी शिक्षा के अध्ययन हेतु मंहगी स्कूल में दाखिल न कराई जाए ? बल्कि, उनके संस्कार बचे रहें यह ध्यान रखने की जरूरत है ।
    एक और कारण होता है, बच्चे में संस्कार के कमी होने का ; जब हम उस पर जरूरत से ज्यादा पढ़ाई का बोझ डालते हैं ?
    कुछ वर्षो पहले मैं एक अतिरिक्त ब्लाक शिक्षा अधिकारी के साथ बैठा था । वह अपने बारे में बहुत सी भावनात्मक बातें बतलाते हुए कहा कि, अब सोलह महिने बाद मैं रिटायर्ड हो जाउंगा, और फिर चैन ही चैन रहेगी । कोई बोझ नहीं होगी । उन्होंने बतलाया कि, उनका एक बेटा है, और अपनी सहायक शिक्षक के साथ शुरू किए सफर से लेकर, ब्लॉक शिक्षाा सहायक अधिकारी के इस पद तक पहुंचने ; खुद भी पढ़ाई करते हुए, जितना संघर्ष किया है । मैं अपने बच्चे को इस संघर्ष में नहीं डालना चाहता था । इसीलिए, उसे अच्छी पढ़ाई करवाया, और आज वह मुंबई में इंजीनयरिंग है ।
    जब मैने उनसे बच्चे को कैसे अच्छी शिक्षा दिलाये हैंं ? अपना अनुभव बतलाने कहा, उन्होंने जो बतलाया ; यह सुनकर मैंने जो सुनिश्चित किया कि, मैं अपने बच्चों को या आसपास के माहौल में भी ऐसी शिक्षा देने के लिए लोगों को रोकने का जरूर प्रयास करूंगा !
    इनके द्वारा दी गई शिक्षा, मेरे तर्क से बच्चे को संस्कार विहीन बनाने का काम ही करती है ! भले ही वह किसी उच्च पद में ना जाये ! चलेगा ? लेकिन, संस्कार तो बची रहेगी ।
    उस अधिकारी ने बताया कि, वह अपने इकलौते बच्चे को नवोदय विद्यालय की तैयारी कर भर्ती कराया और पढ़ाया । जब वह अपने बच्चे से मिलने के लिए जाता था, उनका बच्चा बोलता था - पापा मैं आप और मां के साथ ही रहना चाहूंगा और वहीं अच्छी पढ़ाई करूंगा ।
    लेकिन, उस अधिकारी के अनुसार जब तक उनके इंजिनियरिंग कॉलेज में एडमिशन नहीं हो गया तब तक उन्होंने उनके पढ़ाई से आजादी नहीं दिलाई । 10 वीं के बाद उनका बच्चा दो साल उनके साथ रहा , उस बीच वह अपने बच्चे को 18 घंटे पढा़ई पर ही रखता था । अब आप सोचिए कि, उनका बच्चा एक कैद से छूटते ही, दूसरे कैद में कैसे फंस गया ।
    मैंने उनके बेटे को देखा तो नहीं, लेकिन जिस तरह से उन्होंने बताया ; उनके बेटे का व्यवहार मुझे समझ में आ रहा था और कुछ देर बाद उनकी बात पूरी करते ही समझ में भी आ गया ।
    उस अधिकारी ने बताया कि, वह अपने बच्चे को टी.वी. तक नहीं देखने देते थे । कि, पढ़ाई में कोई बाधा न आ जाए ! और जब उन्होंने आगे की बात बताई तो पूरी
    बात समझ में आ गई कि, आज भी वह नौजवान जो पहले एक बच्चा था क्या सोचता होगा ।
    उस अधिकारी ने बताया कि, जब उनकी नौकरी लगी और पहली तनख्वाह मिला, तो मुंबई से पार्सल में सबसे पहले उनके बेटे ने इनके लिए एक रंगीन टेलीविजन भिजवाई !
    मैने उनसे पूछा कि, वे आये क्यों नहीं ? तो उस अधिकारी ने बताया कि, बड़ा काम है ना, अभी समय नहीं मिल रहा ; इसलिए नहीं आया !
    इस पूरे चर्चा के दौरान उस अधिकारी के माथे पर कहीं कोई सिकन तक नहीं थी, बल्कि वह प्रसन्न थे ! कि, मेरा बेटा मेरे से उंची ओहदे पर है । कभी-कभी ऐसे पालन से भी बच्चों, का व्यवहार बदल सा जाता है ।
    क्या उस बच्चे को बचपन में टीवी की जरूरत नहीं रही होगी ! मैं मानता हूँ कि, कुछ पाबंदी होनी चाहिए, लेकिन, इतनी ही नहीं कि, बच्चे कुंठित महसुस करें । अब सोचिए इस अधिकारी के बेटे नें अपने पिता को सबसे पहला गिफ्ट क्या दिया !
    1986 में 10+2 के मध्यप्रदेश बोर्ड का पहला दसवीं का बोर्ड परीक्षा मैने दिलाया, उस समय हमें पिछले साल नवमी में जनरल प्रमोशन मिला था । लेकिन, इस साल नवमी के 40 प्रतिशत और दसवी के 60 प्रतिशत प्रश्न के साथ हमें बोर्ड परीक्षा दिलाने पडे़ । एक साथ दिलाते हुए हम पास तो हो गये, लेकिन, नंबर कम रहा । तब भी बोर्ड का रिजल्ट कम होने की वजह से दसवीं पास होकर, मैं फीटर में आई. टी. आई. करना चाहता था । और एडमिशन भी मिल रहा था , तब मेरे नानाजी जी यह कहते हुए मना किया कि, कहां लोहा-लक्कड के साथ काम करोगे ; आगे पढ़ाई करो और बी.डी.ओ. बनो ।
    उस समय मुझे समझ में नहीं आया कि, यह बीडीओ क्या होता है । हालांकि मेरी पढ़ाई पूरी नहीं हुई । और मैं मानता हूँ कि, अच्छा ही हुआ मैं बीडीओ नहीं बना ।
    यह बात भी है कि, मेरे साथ पढ़ाई कर निकले मेरे मित्र आईटीआई कर आज भिलाई स्पात संयंत्र में बडे पदों पर नौकरी कर रहें हैं , लेकिन, जब उनके बड़े अधिकारी मुझे सम्मान देते हैं तो मेरे मित्र बड़े ही गर्मजोशी से मुझसे मिलते हैं ।
    जिस तरह से बच्चों को अच्छी शिक्षा की दिशा देते हुए हम एक भटकाव की ओर ले जाते हैं ! और अपनी बातें थोपने का प्रयास करते हैं जाहिर है, शिक्षा तो ऊंची मिल जायेगी, पद बड़ा मिल जायेगा ; पर व्यवहार छूट जायेगा ।।

    - घनश्याम जी. वैष्णव बैरागी
    08827676333
    gbairagi.enews@gmail.com
    Post Comments Now
    Comments