Participating partners:


    अन्त्योदय मेले के दूसरे दिन विज्ञान व सांस्कृतिक कार्यक्रमों की रही धूम

  • RAJESH MISHRA
    RAJESH MISHRA
    • Posted on September 24, 2017
    अन्त्योदय मेले के दूसरे दिन विज्ञान व सांस्कृतिक कार्यक्रमों की रही धूम


    अन्त्योदय मेले के दूसरे दिन विज्ञान व सांस्कृतिक कार्यक्रमों की रही धूम

    लक्ष्य अन्त्योेदय, प्रण अन्त्योदय तथा पंथ अन्त्योदय के प्रण को पूरा करना हमारा लक्ष्य-सत्यदेव सिंह

    मेले में स्टाॅलों पर उमड़ रही भीड़, दी जा रही है सरकार की योजनाओं की जानकारी

    तीन दिवसीय अन्त्योदय मेले का समापन सोमवार को

    पण्डित दीन दयाल उपाध्याय की जन्मशती वर्ष के उपलक्ष्य में नगर के शहीदे आजम सरदार भगत सिंह टामसन इन्टर कालेज में चल रहे तीन दिवसीय जनपद स्तरीय पन्डित दीन अन्त्योदय मेला एवं प्रदर्शनी का दूसरा दिन विज्ञान एवं सांस्कृतिक कार्यक्रमों के नाम रहा। दूसरे दिन मेले का शुभारम्भ पूर्व सांसद सत्यदेव सिंह ने बतौर मुख्य अतिथि किया। दूसरे दिन के मेले का शुभारम्भ दीप प्रज्ज्वलन एवं पण्डित दीन दयाल उपाध्याय के चित्र पर माल्यार्पण से हुआ।
    मेले का शुभारम्भ करने के पश्चात पूर्व सांसद ने अपने सम्बोधन की शुरूआत पण्डित दीन दयाल के विचारों से की। उन्होने कहा कि पण्डित जी का सपना, लक्ष्य अन्त्योेदय, प्रण अन्त्योदय तथा पंथ अन्त्योदय रहा और उन्होने अपनी पूरी उच्च शिक्षा , पूरा जीवन समाज के दबे कुचले एवं अन्तिम पंक्ति के व्यक्ति के उत्थान में लगा दिया। वे एक महान चिन्तक और तपस्वी थे। आज के दौर में पण्डित जी के विचार प्रासंगिक हैं और उन्हें आत्मसात करने की जरूरत है। डीएम जेबी सिंह ने अपने उद्बोधन में मेले में उपस्थित छात्र-छात्राओं, अभिभावकों, अध्यापकों तथा उपस्थित जनसामान्य से अपील करते हुए कहा कि वे सब स्वयं भी स्वच्छता अपनाएं तथा अपने आसपास गन्दगी न फैलाएं तथा दूसरों को भी गन्दगी फैलाने से रोकें। विशिष्ट अतिथि सांसद कैसरगंज प्रतिनिधि संजीव सिंह ने कहा कि देवीपाटन मण्डल का बहुत की गौरवशाली इतिहास रहा है। देश के चार महान चिन्तकों महात्मा गांधी, डा0 राम मनोहर लोहिया, डा0 भीमराव अम्बेडकर तथा पण्डित दीनदयाल उपाध्याय ने देश की दशा और दिशा बदलने वाले विचार दिए। आज भारत विश्व में महाशक्ति के रूप में प्रतिष्ठित हो रहा है जिसमें दीन दयाल जी के विचारों का बहुत बड़ा योगदान है। उन्होने कहा कि आने वाले समय में गोण्डा में विकास होकर रहेगा। उन्होने यह भी घोषणा की इस बार जिले में गोण्डा महोत्सव ऐतिहासिक होगा। उन्होने पन्डित दीन दयाल उपाध्याय के विचारों पर प्रकाश डालते हुए, उनके द्वारा बताए गए रास्तों पर चलने का आहवान किया। सीडीओ दिव्या मित्तल ने अपने महत्वपूर्ण सम्बोधन में कहा कि गोण्डा में प्रतिभाएं भरी हुईं हैं। परन्तु प्रतिभाओं को सही प्लेटफार्म की जरूरत है। सीडीओ ने मुख्य अतिथि, अन्य विशिष्ट अतिथियों का धन्यवाद ज्ञापित किया।

    सांस्कृति कार्यक्रमों की मोहक प्रस्तुति से स्कूली बच्चों ने बांधी शमां
    मोहम्मद आफताब व जगदीश भारती ने जादू दिखा बताई विज्ञान की बारीकियां

    कार्यक्रम के दौरान फुलवारी स्कूल के नन्हे-मुन्ने बच्चों द्वारा सरस्वी वन्दना, स्वागत गीत तथा देश भक्ति के गीत जय हो की लजवाब प्रस्तुति कर शमां बांध दिया। बच्चों द्वारा मोहक प्रस्तुति के लिए विज्ञान क्लब के संयुक्त निदेशक द्वारा पांच हजार रूपए तथा सांसद प्रतिनिधि द्वारा संजीव सिंह ने ढाई हजार रूपए का नगद पुरस्कार प्रदान किया गया। वहीं सरयू कन्या पाठशाला की बच्चियों द्वारा भी नृत्य प्रस्तुत किया गया।मोहम्मद आफताब द्वारा पण्डित दीन दयाल जी के जीवन पर प्रकाश डालते हुए लजवाब जादू दिखाया गया। वहीं जगदीश भारती द्वारा जादू। कठपुतली पार्टी द्वारा कठपुतली नृत्य दिखाकर जागरूक करने का प्रयास किया गया।

    सम्मानित हुए गुरूजन

    विज्ञान के क्षेत्र में बेहतर कार्य करने वाले अध्यापकों तथा बच्चों को मेले के मंच पर अतिथियों द्वारा स्मृति चिन्ह एवं प्रशस्ति पत्र भेंटकर सम्मानित किया गया। मुख्य अतिथि पूर्व सांसद, डीएम, सांसद प्रतिनिधि संजीव सिंह व सीडीओ ने अध्यापकों को सम्मानित किया। इस अवसर पर डी.एम. और सीडीओ ने शिक्षको मनीष वर्मा,सुनील आनंद,हंस राज भारती, उमा सिंह, आदि को उनके कार्यों के लिए सम्मानित किया।
    Post Comments Now
    Comments