Participating partners:


    रिकार्ड रेल उत्पादन के साथ मनाया गया भिलाई में उन्हत्तरवां गणतंत्र दिवस पर्व : भिलाई इस्पात संयंत्र कर्मियों में दिखा उत्साह :

  • Ghanshyam Bairagi
    Ghanshyam Bairagi
    • Posted on January 27
    रिकार्ड रेल उत्पादन के साथ मनाया गया भिलाई में उन्हत्तरवां गणतंत्र दिवस पर्व : भिलाई इस्पात संयंत्र कर्मियों में दिखा उत्साह :

    भिलाई : गणतंत्र दिवस की पूर्व रात्रि पर रेल मिल ने R-60 रेल का रिकॉर्ड उत्पादन करके एक कीर्तिमान स्थापित किया है |
    मिल जोन की पदाधिकारी से प्राप्त जानकारी के अनुसार, 25 जनवरी की रात्रि पाली में 385 ब्लूम का सर्वश्रेष्ठ रिकॉर्ड उत्पादन दर्ज किया गया जिसमें 1465 टन ब्लूम का उत्पादन हुआ ,यह अब तक का सर्वश्रेष्ठ उत्पादन है | इससे पहले 27 मार्च 2017 को 381 टन ब्लूम का रिकॉर्ड दर्ज हुआ था जिसके तहत 1450 टन ब्लूम का उत्पादन किया गया था |
    फिनिशिंग वह इकाई है, जहाँ से पास होने के बाद रेल को भारतीय रेल को सौंपा जाता है | गणतंत्र दिवस के अवसर पर प्रथम पाली में फिनिशिंग मिल ने भी कीर्तिमान स्थापित करते हुए 860 टन प्राइम रेल का उत्पादन किया | यह भी आज तक का सर्वश्रेष्ठ उत्पादन है | इस प्रकार से 26 जनवरी को गणतंत्र दिवस के अवसर पर 2700 टन प्राइम रेल का उत्पादन करके एक अभूतपूर्व कीर्तिमान स्थापित हुआ है |
    विश्वस्त सूत्रों ने बतलाया, कि रेल मिल को 60,000 टन का लक्ष्य दिया गया है, लेकिन वर्तमान उत्पादन को देखते हुए रेल मिल 65000 टन का उत्पादन करने की स्थिति में है, जो कि टारगेट से भी ज्यादा है, ऐसा पहली बार हो रहा है |
    वहीं यू.आर.एम. के उत्पादन में कमी की वजह से शॉर्ट रेल पर अतिरिक्त बोझ पड़ रहा है | ज्ञातव्य हो कि यू.आर.एम. अपने स्थापित क्षमता का 25% ही उत्पादन कर पा रहा है | जिसके चलते शॉर्ट रेल पर दबाव बढ़ रहा है | भारतीय रेल को 90000 टन रेल की सप्लाई प्रतिमाह की जानी चाहिए | जिसकी सप्लाई के लिए शार्ट रेल के कर्मी निरंतर प्रयत्नशील रहते हैं, और इस टारगेट को पूरा करने में सक्षम रहे हैं |
    शॉर्ट रेल मिल सबसे पुराना रेल मिल है, तथा वहां की अधिकांश मशीनें जर्जर हो चुकी है | पुराने किस्म के उपकरण लगे हुए हैं | कई कार्यो को मैन्युअल रूप से अर्थात हाथों से करना पड़ता है | वहां पर कार्य कर रहे अधिकांश कर्मी उम्र दराज भी हो चुके हैं |
    इस सबके बावजूद अपने दीर्घकालीन अनुभव तथा कार्य कुशलता के चलते हुए निर्धारित लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए जी तोड़ मेहनत करते हैं और लक्ष्य को प्राप्त करके ही छोड़ते हैं | किसी भी रिकोर्ड को बनाने के लिए रिकार्ड बनाने वाली शिफ्ट के पहले वाली शिफ्ट के कर्मियों का योगदान सबसे महत्वपूर्ण होता है , जिसके बिना रिकार्ड नहीं बन सकता | उत्पादन एक टीम वर्क है जिसमे ठेका श्रमिक से लेकर संयंत्र कर्मी तक और शिफ्ट मेनेजर से लेकर उच्च प्रबंधन तक हर एक की भूमिका महत्वपूर्ण है जिसके बिना कुछ भी संभव नहीं है |
    रेल मिल के कर्मियों की अदम्य इच्छाशक्ति और प्रबल कार्यकुशलता को सराहने के लिए श्रमिक संगठन सीटू का प्रतिनिधिमंडल 26 जनवरी गणतंत्र दिवस के अवसर पर उनके पास रात्रि पाली में पहुंचा तथा सभी कर्मियों को हार्दिक बधाई देते हुए उनका उत्साहवर्धन किया |
    सीटू के प्रतिनिधिमंडल में जोन सचिव केंवेद्र सुंदर, संगठन सचिव टी. जोगाराव, अशोक खातरकर, गिरवर कुमार, अशोक कंगाली, बी. के भरता, राजेश शर्मा तथा डी.वी.एस.रेड्डी , आदि शामिल थे |
    कर्मियों के द्वारा किये गए रिकार्ड उत्पादन में महाप्रबंधक गहन सेनगुप्ता, शिफ्ट इंचार्ज प्रशांत खोंड़, उप महाप्रबंधक सप्तर्षि सेनगुप्ता, उप महाप्रबंधक प्रभारी चट्टोपाध्याय तथा शिफ्ट मैनेजर मनोज नायर ने भी अपनी सकारात्मक भूमिका निभाई तथा कर्मियों को हर प्रकार से सहयोग किया | उन के मार्गदर्शन में कर्मियों ने इस लक्ष्य को अंजाम तक पहुंचाया |
    भिलाई इस्पात संयंत्र कर्मियों के लगातार कड़े परिश्रम के चलते सेल फिर से लाभ की स्थिती की ओर बढ़ रहा है तथा घाटा निरंतर कम हो रहा है | अब समय आ गया है कि कर्मियों के द्वारा किए जा रहे कड़े परिश्रम को देखते हुए संयंत्र प्रबंधन की गई कटौतीयों को वापस ले तथा ई.एल. एन्केशमेंट, एच.आर.ए. तथा अन्य सुविधाओं को पुनः प्रारंभ करें | सेल के बेहतर स्थिति को देखते हुए जल्द से जल्द वेज एग्रीमेंट भी किए जाने की मांग भी की गई है |।
    ***************************
    - घनश्याम जी.वैष्णव बैरागी
    08827676333
    नंदिनी-भिलाईनगर ( छ.ग. )
    gbairagi.enews@gmail.com
    =======================
    Post Comments Now
    Comments