Participating partners:


    @ आज भी मुद्दे.... ?

  • Ghanshyam Bairagi
    Ghanshyam Bairagi
    • Posted on February 14
    @ आज भी मुद्दे.... ?



    @ क्या आतंकवाद,
    रोक पाएगा ;
    भारत का विकास... @
    *******************************

    स्वतंत्रता के लगभग 18 वर्ष बाद से, शुरू हुई भारत के विकास के क्रम को रोकने का विफल प्रयास पिछले 50 वर्षों से भारत में अलगाववाद, उग्रवाद, और आतंकवाद की स्थिति बनी हुई है, और भारत का विकास साथ-साथ चलते रहा है ।
    पड़ोसी देशों पाकिस्तान और चीन के हमले, और उससे निपटते हुए विश्व परिदृश्य में देश का सम्मान बढ़ते गया है । शांति और अहिंसा का सूत्र भारत ने कभी भी नहीं छोड़ा ।
    आज की आधुनिक तकनीकी शिक्षा, स्वास्थ्य, ग्रामीण-विकास के क्षेत्र में उत्तरोत्तर प्रगति, आधुनिक कृषि तकनीक और अपने ही देश में फसलों के कई उत्पाद और इन उत्पादों का निर्यात ; ग्रामीण अंचल के पढ़े-लिखे युवाओं को गांव में ही रोजगार की संभावनाएं तलाशने, सफलता मिली है ।
    आज भी भारत विकासशील देशों की सूची में बनी हुई है, इसके बहुत से कारण है । जिसमें स्थिर राजनीति का नहीं होना भी एक कारण माना जा सकता है ।
    जिससे सरकार के कामकाज पर भी असर पड़ता है । और यही कारण है कि, आतंकवाद जैसे मुद्दों पर भी जमकर राजनीति होती रहती है । जो राजनीति सत्ता की दृष्टिकोण से की जाती है, क्यों न, विकास के क्रम में निरंतरता बनाए रख , की जाये ।
    वैसे आज के परिवेश में आतंकवाद की भूमिका को विकास के क्रम ने याद करना छोड़ दिया है । इसके लिए आज की युवा पीढ़ी को ही प्रथम दृष्टया देखा जा सकता है ।
    जहां भारत को युवाओं का देश कहा जाता है, वहीं आतंकवाद के रास्ते पर चलने वाले सबसे ज्यादा युवा वर्ग ही है, जिनकी संख्या नगण्य है, जबकि, विकास के रास्ते पर चलने वाले युवा वर्ग की संख्या सबसे ज्यादा है । और आतंकवाद से ऐसे ही निपटा जा सकता है , जिसके लिए सभी को मिलकर सामूहिक प्रयास किए जाने की आवश्यकता है ।
    राजनीति अपने जगह पर रहे ; और देश हित सर्वोपरि हो, विकास का क्रम ना टूटे, सत्ता भले ही बदलती रहे ।
    निश्चित तौर पर इस परिकल्पना को कि, आतंकवाद भारत का विकास रोक पाएगा समूल भुलाया जा सकता है ।।
    ************************
    - घनश्याम जी. वैष्णव बैरागी
    ~~~~~~~~~~~~~~~~
    08827676333
    gbairagi.enews@gmail.com
    ==========================
    Post Comments Now
    Comments