Participating partners:


    जी एस टी

  • Rajesh Garg
    Rajesh Garg
    • Posted on July 6
    जी एस टी
    एक कर एक राष्ट्र की अवधारणा देने वाले मोदी जी कृपया सोचिये इस का सबसे ज्यादा फायदा केवल मल्टी नेशनल कम्पनीज ही उठाएंगी, पूर्व में १.५ करोड़ तक के सालाना टर्नओवर वाले उत्पादकों को उत्पादन कर से छूट प्राप्त थी जिसकी वजह से उनकी लगत बड़ी कम्पनिओं के मुकाबले कम होती थी और वो व्यापार कर पते थे लेकिन अब ये छूट समाप्त कर दी गई है जिसकी वजह से कुटीर और टाइनी उद्योग आने वाले समय में धीरे धीरे मुकाबले से बहार होते जाने के कारण बंद होते जाएंगे. बेरोज़गारों की फौज किस तादाद में आने वाले समय में इस कारण हमारे सामने आएगी ये देखना इस देश का बड़ा दुर्भाग्य होगा.
    नोटिफिकेशन नंबर ५०/२०१३ के आधार पर जिन्होंने अपनी इकाइयां दुर्गम पहाड़ी इलाकों में लगाई वो तो अपनी अब लागत भी शायद निकाल पाएं. शायद जी एस टी को लागू करने की जल्दबाज़ी में मोदी जी देश के इस बहुसंख्यक जनता के हितों पर विचार नहीं कर पाए.
    अब शायद आने वाला समय आर्थिक आपातकाल का है जिसका परिणाम पूरा देश भुगतेगा. धन्यवाद मोदीजी आपको आपका विदेश प्रवास मुबारक.
    Guest likes 1
    Post Comments Now
    Comments