Participating partners:


    आँसू मेरे :

  • Ghanshyam Bairagi
    Ghanshyam Bairagi
    • Posted on January 10
    आँसू मेरे :

    आंसू ये कैसा है रंग
    आंसू को कभी
    कोई समझ ना सका ।
    रूप बदलते चेहरों के,
    निकले आंसू तब दिखते हैं ।।
    समझ गया जब देखा आंसू,
    खुशी के हैं या हैं गम के ।
    खुशी के आंसू गम के आंसू,
    बस आंसू ऐसा ही है ।।
    आंसू जो चेहरे को छुपाय,
    समय बिता कर दगा दे जाय ।
    कहते ये आंसू कम है,
    मगरमच्छी नाम कहाय ।।
    बस आंसू दिखते कम है,
    कहीं खुशी कहीं गम है ।
    रूप-रंग ना दिया इन्हे,
    भावना के ये मूलतत्व हैं ।।
    ---------------------------
    - घनश्याम जी.बैरागी
    08827676333
    gbairagi.enews@gmail.com
    =======================
    Guest likes 2
    Post Comments Now
    Comments