Participating partners:


    बन्द करो आज़ादी की बरबादी

  • Bodhisatva Kastooriya
    Bodhisatva Kastooriya
    • Posted on August 11
    बन्द करो आज़ादी की बरबादी
    तुष्टीकरण और धर्मनिरपेछता की आड मे अब,
    राष्ट्र्वाद,और संप्रभुता से खिलवाड न होने पाये!
    बन्द करो आज़ादी की बरबादी करने वालों को,
    देश-द्रोह-नासूर कही तिल का ताड न होने पाये!!
    "साम्यवाद,-समाजवाद""राश्ट्र्वाद"पर क्यों हावी?
    गुबार रेत का एकत्र हो,कहीं पहाड न होने पाये!!
    भारत माँ के सपूतो की कुर्बानी क्या समझे कोई?
    कल तक जो चूहे बिल के थे,साँड न होने पाये!!
    "आपातकाल"के अनुयायी, देते दुहाई अभिव्यक्ति
    है शपथ तुम्हे!भारत माँ की दहाड न खोने पाये!!
    बोधिसत्व कस्तूरिया २०२ नीरव निकुन्ज सिकन्दरा आगरा-२८२००७
    Unlike · Comment
    Post Comments Now
    Comments (1)
    • Bodhisatva Kastooriya
      Prakash Anand ....desh droh bahoot baadh gayaa hi zaleem! arz keeya hi!
      pata nahee keesko shak tha ke ye desh hi bhee kee nahee! ...